Headline
ओमान के तट पर तेल टैंकर के पलटने से 16 लोग लापता, तलाश जारी 
मॉडर्न मदरसे में किया गया वृक्षारोपण
प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में चुनाव कार्यक्रम पर लगी मुहर, अगस्त माह से शुरू होगी प्रक्रिया
मुख्यमंत्री धामी ने जागेश्वर धाम के प्रसिद्ध श्रावणी मेले का किया शुभारंभ
सीएम धामी बौखनाग डोली के अयोध्या धाम भ्रमण कार्यक्रम में हुए शामिल
राजकुमार राव और श्रद्धा कपूर स्टारर स्त्री 2 के ट्रेलर की रिलीज डेट से उठा पर्दा, फिर फैलेगी दहशत
आतंकी हमला प्रशासन के लिए चिंता का विषय
आखिर क्या है केदारनाथ मंदिर के सोने का सच ?
केंद्र सरकार ने नीति आयोग का किया पुनर्गठन, एनडीए और सहयोगी दलों को मिली जगह

कृषि मंत्री बनते ही एक्शन में शिवराज सिंह चौहान, इन प्रस्तावों को दी मंजूरी

नई दिल्ली। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण तथा ग्रामीण विकास मंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संकल्प के अनुरूप 100 दिवसीय कृषि कार्ययोजना के संबंध में विस्तार से चर्चा की। चौहान ने अधिकारियों से कहा कि वे अपना पूरा ध्यान किसान-उन्मुखी कार्यों पर केन्द्रित करें, ताकि प्रधानमंत्री के संकल्प के अनुरूप तेजी से कार्य हो सकें। केंद्रीय मंत्री ने मोदी सरकार के तीसरे कार्यकाल के पहले 100 दिनों की विभागीय कार्ययोजना के सभी पहलुओं को समझते हुए देश के कृषि क्षेत्र को मजबूत बनाने तथा किसानों की पीड़ा को कम करने के लिए मजबूत कदम उठाने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि हमारे किसान भाई-बहनों को गुणवत्तापूर्ण खाद, बीज तथा अन्य इनपुट की उपलब्धता प्राथमिकता के आधार पर सुनिश्चित की जानी चाहिए। मंत्री ने कहा कि किसानों को इस संबंध में कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए तथा इस बात का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए।केंद्रीय मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि देश में कृषि उत्पादन और उत्पादकता बढ़नी चाहिए तथा हमें एक ठोस कार्ययोजना लागू करनी चाहिए, ताकि हम अपनी घरेलू जरूरतों को पूरा करने के साथ-साथ दुनिया के अन्य देशों को उनकी जरूरतों के अनुसार गुणवत्तापूर्ण कृषि उत्पाद निर्यात कर सकें। बैठक में वरिष्ठ अधिकारियों ने विभागवार योजनाओं का प्रस्तुतीकरण दिया।

बैठक में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री रामनाथ ठाकुर और भागीरथ चौधरी, कृषि सचिव मनोज आहूजा तथा कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग (डेयर) के सचिव और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के महानिदेशक डॉ. हिमांशु पाठक भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top