Headline
पैथोलॉजी लैब संचालिका के साथ दुष्कर्म के प्रयास के मामले में राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने लिया संज्ञान 
उपचुनाव में भाजपा को बड़ा झटका, जानिए 13 विधानसभा सीटों का फाइनल रिजल्ट
महासंघ ने कठुआ हमले में शहीदों की याद में किया वृक्षारोपण
देहरादून स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने जीता स्कॉच अवार्ड 2024
देश में फैल रही बदहाली
अग्निवीर योजना सक्षम सैनिक, सशक्त सेना की दिशा में क्रांतिकारी कदम – जोशी
जान्हवी कपूर की उलझ के नए पोस्टर ने बढ़ाया प्रशंसकों का उत्साह, अजय देवगन को टक्कर देने के लिए तैयार अभिनेत्री
एससी एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत लंबित मामलों के निस्तारण पर जोर
नेपाल में भूस्खलन से नदी में बह गई दो यात्री बसें, 50 लोगों की तलाश शुरू

चुनाव से पहले पीएम मोदी ने हरियाणा को दी बड़ी सौगात, द्वारका एक्सप्रेसवे का किया उद्घाटन

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को गुरुग्राम (Gurugram) में द्वारका एक्सप्रेसवे समेत 144 सड़क परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इस दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद रहे।

इस अवसर पर पीएम मोदी ने कहा, ‘आज से दिल्ली हरियाणा के बीच यातायात का अनुभव हमेशा के लिए बदल जाएगा। ये आधुनिक एक्सप्रेसवे केवल गाड़ियों में ही नहीं बल्कि दिल्ली एनसीआर के लोगों की जिंदगी में भी गियर शिफ्ट करने का काम करेगा।’

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ‘आज यहां देशभर के लिए 1 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की 100 से अधिक परियोजनाओं का लोकार्पण या शिलान्यास हो रहा है। सभी राज्यों के करोड़ों नागरिकों को इतनी सारी विकास परियोजनाओं के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं।’‘2024 को अभी तीन महीने भी नहीं बीते हैं और इतने कम समय में 10 लाख करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन हो चुका है. ये सिर्फ वो परियोजनाएं हैं जिसमें मैं शामिल रहा हूं। इसके अलावा कई मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों ने भी विकास परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया है।’

पूर्व की सरकार पर निशाना साधते हुए पीएम ने कहा, ‘पहले की सरकारें छोटी सी कोई योजना बनाकर, छोटा सा कोई कार्यक्रम करके उसकी डुगडुगी पांच साल तक पीटते रहते थे. वहीं भाजपा सरकार जिस रफ्तार से काम कर रही है, उसमें शिलान्यास व लोकार्पण के लिए समय और दिन कम पड़ रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा, ’21वीं सदी का भारत बड़े विजन का भारत है। ये बड़े लक्ष्यों का भारत है। आज का भारत प्रगति की रफ्तार से कोई समझौता नहीं कर सकता। मैं न छोटा सोच सकता हूं, न मैं मामूली सपने देखता हूं और न ही मैं मामूली संकल्प करता हूं। मुझे जो चाहिए. विराट चाहिए, विशाल चाहिए और तेज गति से चाहिए क्योंकि 2047 में मुझे देश को ‘विकसित भारत’ के रूप में देखना है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top