Headline
धुंआधार प्रचार में जुटे मुख्यमंत्री धामी, लोकसभा चुनाव में झोंकी ताकत
आईपीएल 2024- कोलकाता नाइट राइडर्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच मुकाबला आज 
उत्तराखण्ड के पूर्व डीजीपी की बेटी कुहू गर्ग का आईपीएस में चयन
एलन मस्क ने नए यूजर्स के लिए की बड़ी प्लानिंग, पोस्ट करने के लिए देने होंगे पैसे 
लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने उम्मीदवारों की 12वीं सूची की जारी
वर्कआउट के दौरान ज्यादा पानी पीना हो सकता है खतरनाक, जानें कैसे?
मुख्यमंत्री धामी ने भाजपा के संकल्प पत्र के संबंध में की प्रेस वार्ता
चारधाम यात्रा के लिए ऑनलाइन पूजा बुकिंग शुरू, इस वेबसाइट पर करे पंजीकरण
सांसदों के गोद लिए गांवों की दुर्दशा का कारण बताए भाजपा – करन माहरा

किसानों ने की दिल्ली कूच की कोशिश, पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले

नई दिल्ली। किसानों ने घोषणा की थी कि वे बुधवार 21 फरवरी को दिल्ली की ओर मार्च करेंगे। फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की कानूनी गारंटी सहित विभिन्न मांगों के लिए केंद्र पर दबाव बनाने के लिए उनके ‘दिल्ली चलो’ मार्च को सुरक्षा बलों की तरफ से रोक दिए जाने के बाद प्रदर्शनकारी किसान हरियाणा के साथ पंजाब की सीमा पर शंभू और खनौरी बिंदुओं पर रुके हुए हैं। सरकार ने अनुमान लगाया है कि 1,200 ट्रैक्टर-ट्रॉलियों, 300 कारों, 10 मिनी बसों के साथ-साथ छोटे वाहनों के साथ लगभग 14 हजार लोग पंजाब-हरियाणा सीमा पर एकत्र हुए हैं।

SP अर्पित जैन ने कहा, “हमने दिल्ली बॉर्डर पर कुल 10 कंपनियों को तैनात किया है… हम हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं… लोगों से अपील है कि वे ट्रैफिक ऐडवाइजरी का पालन करें।” केंद्रीय कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने ट्वीट किया, ‘चौथे दौर के बाद सरकार पांचवें दौर में एमएसपी, फसल विविधीकरण, पराली मुद्दा, एफआईआर जैसे सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है। मैं फिर से किसान नेताओं को चर्चा के लिए आमंत्रित करता हूं।यह महत्वपूर्ण है हमें शांति बनाए रखनी है।’

किसान नेता सरवन सिंह पंधेर का कहना है कि हमने सरकार से कहा है कि आप हमें मार सकते हैं लेकिन कृपया किसानों पर अत्याचार न करें। हम प्रधानमंत्री से अनुरोध करते हैं कि वह आगे आएं और कानून की घोषणा करके इस विरोध को समाप्त करें। देश ऐसी सरकार को माफ नहीं करेगा। हरियाणा के गांवों में अर्धसैनिक बल तैनात हैं। हमने क्या अपराध किया है? हमने आपको प्रधानमंत्री बनाया है। हमने कभी नहीं सोचा था कि सेनाएं हम पर इस तरह से अत्याचार करेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top