Headline
महाराज ने दिये महाभारत ट्रेल को विकसित करने के निर्देश
सीमान्त मुनस्यारी पिथौरागढ़ व चम्पावत के लिए उड़ान भरेंगे हेलीकॉप्टर
रोज एप्पल जूस पिएंगे तो क्या होगा, सेब का जूस पीते वक्त बरतें ये सावधानियां
चारधाम यात्रा की तैयारियों में जुटा स्वास्थ्य महकमा
उत्तराखंड की बेटी ने राष्ट्रीय साहित्यिक मंच पर किया नाम रोशन
विवाह बंधन में बंधे रकुल प्रीत सिंह और जैकी भगनानी, सिख रीति रिवाजों से हुआ आनंद कारज
बद्रीनाथ धाम ने ओढ़ी बर्फ की सफेद चादर, रुक-रुककर बर्फबारी का दौर जारी
ब्लॉक प्रमुख ने कांग्रेस छोड़ी, भाजपा का दामन थामा
सभी बाधाएं दूर, शीघ्र शुरू होगा जमरानी बांध का निर्माण- महाराज

माईक्रोसॉफ्ट ने एप्पल को पछाड़ा, बनी दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी

लंदन। माइक्रोसॉफ्ट ने एप्पल को पछाडक़र बाजार मूल्य के हिसाब से दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बन गई है, क्योंकि कृत्रिम बुद्धिमत्ता में उछाल ने दो बिग टेक समूहों के बीच दशकों से चली आ रही प्रतिद्वंद्विता में एक नया मोड़ ला दिया है। यह बात मीडिया रिपोर्टों में कही गई। सॉफ्टवेयर कंपनी के शेयर शुरुआती कारोबार में लगभग 1 प्रतिशत चढ़ गए और इसका बाजार मूल्य 2.87 ट्रिलियन डॉलर हो गया, जो कि निर्माता से थोड़ा आगे है, जिसके शेयरों में लगभग 1 प्रतिशत की गिरावट आई है। जैसे ही न्यूयॉर्क में सुबह का कारोबार जारी रहा, युग्म ने कई बार शीर्ष स्थान का आदान-प्रदान किया।

जेनेरिक एआई की नई लहर के बारे में निवेशकों के उत्साह ने माइक्रोसॉफ्ट के शेयरों में तेजी ला दी है, जो लोकप्रिय एआई-संचालित चैटबॉट चैटजीपीटी के निर्माता ओपनएआई का सबसे बड़ा समर्थक है। एप्पल को काफी हद तक एआई उत्साह से बाहर रखा गया है, जिसने माइक्रोसॉफ्ट को प्रेरित किया है, जो ओप का सबसे बड़ा समर्थक और क्लाउड होस्टिंग प्रदाता है और साथ ही अपने खोज और कार्यस्थल उत्पादों में एआई चैटबॉट तैनात करने में अग्रणी है।

उसी समय कमजोर  बिक्री के बारे में चिंताओं विशेष रूप से चीन में 2024 के पहले कुछ दिनों में एप्पल के स्टॉक पर असर डाला है, जिससे वॉल स्ट्रीट विश्लेषकों की रेटिंग में गिरावट आई है। एप्पल और माइक्रोसॉफ्ट 1980 के दशक से प्रतिद्वंद्वी रहे हैं, जब स्टीव जॉब्स और स्टीव वोज्नियाक द्वारा स्थापित कंपनी ने बिल गेट्स के विंडोज निर्माता पर उसके मैकिंटोश कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर के लुक और अनुभव को चुराने का आरोप लगाया था। एप्पल 1990 के दशक की शुरुआत में विंडोज़ को लक्षित करने वाला एक हाई-प्रोफाइल कॉपीराइट मुकदमा हार गया, जिससे माइक्रोसॉफ्ट के लिए दशकों तक पीसी बाजार पर हावी होने का रास्ता साफ हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top