Headline
धन दा के आंगन में खिले कमल के पांच फूल
आईपीएल 2024- मुंबई इंडियंस और पंजाब किंग्स के बीच मुकाबला आज 
उत्तराखंड की सभी पांच संसदीय सीटों के लिए कल एक साथ होगा मतदान 
नागपुर में बोले नितिन गडकरी, दलित और मुस्लिम मुझे वोट न दें.. अगर मैंने, यहां देखें वीडियो
टिहरी से भाजपा प्रत्याशी किसी के सुख- दुख की भागीदार नहीं रही- कांग्रेस
लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने जारी की एक और कैंडिडेट लिस्ट
मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी के निदेशक डॉ. योगेन्द्र सिंह की सहारनपुर और हरिद्वार में कार्डियोलॉजी ओपीडी सेवाएं शुरू
रेगिस्तानी मुल्क में बाढ़ जैसे हालात, बारिश से पानी-पानी हुआ दुबई
लकड़ी का फर्नीचर गंदा हो गया है तो ये टिप्स अपनाएं, चमकने लगेगा तुरंत

केंद्र व राज्य सरकार के नेतृत्व में महिलाओं को मिल रही हर क्षेत्र में प्राथमिकता

रुद्रपुर। आज जिला उधमसिंह नगर के मुख्यालय रुद्रपुर के नगर निगम सभागार में आयोजित कार्यक्रम नारी शक्ति सम्मान में बतौर मुख्य अतिथि उत्तराखंड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कुसुम कण्डवाल के द्वारा गर्भवती महिलाओं की गोद भराई कराई गई, राज्य सरकार की ओर से 5 महिलाओं को महालक्ष्मी किट वितरित की गई तथा इस अवसर पर 6 शिशुओं का अन्नप्राशन भी कराया गया। कार्यक्रम में आयोग की अध्यक्ष कुसुम कण्डवाल द्वारा पांच महिला बीएलओ को श्रेष्ठ कार्य हेतु सम्मानित भी किया गया तथा कार्यक्रम में उपस्थित सभी मातृशक्ति को निष्पक्ष व बिना लालच के मतदान करने के लिए शपथ भी दिलाई गई।

कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि रहते हुए आयोग की अध्यक्ष कुसुम कण्डवाल ने कहा कि आज केंद्र व राज्य सरकार के नेतृत्व में महिलाओं को हर क्षेत्र में प्राथमिकता मिल रही है। आज हमारे राज्य की महिलाशक्ति आत्मनिर्भर हो रही है। उन्होंने कहा कि आज माननीय प्रधानमंत्री  के नेतृत्व में महिलाए हर क्षेत्र में परचम लहरा रही है तथा राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी महिलाओं की सुरक्षा व उनके सशक्तिकरण के प्रति अत्यंत संवेदनशील है।

उन्होंने मातृशक्ति की सम्बोधित करते हुए कहा कि आज गर्व का विषय है कि राज्य के प्रमुख पदों में महिलाएं है। श्रीमती कण्डवाल ने यूसीसी पर राज्य के मुख्यमंत्री व केन्द्रीय नेतृत्व का आभार व्यक्त किया व इसके प्रति महिलाओं को जागरूक करते हुए कहा की यह कानून महिला सुरक्षा व महिलाओं के हितों की रक्षा का काम करेगा और इसका सर्वाधिक लाभ राज्य की मुस्लिम बहनों को मिलेगा उन्हें अब अन्य महिलाओं की भाँति अपने हक और अधिकार प्राप्त होंगे और तीन तलाक जैसी प्रताड़ना से नही झूझना पड़ेगा उन्हें समान अधिकार मिलेंगे।

साथ ही आयोग की अध्यक्ष श्रीमती कंडवाल ने कहा कि हम माता को यह भी देखना होगा कि हमारे बच्चे हमारी संस्कृति व संस्कारों से कैसे जुड़े उन्हें अपनी संस्कृति और संस्कारों की शिक्षा अवश्य देनी होगी क्योंकि यदि आज का युवा स्वस्थ होगा तभी वह शिक्षित भी होगा और स्वावलंबी भी होगा । यह सब संस्कारों के माध्यम से ही संभव है। कार्यक्रम का संचालन जिला प्रोबेशन अधिकारी व्योमा जैन द्वारा किया गया।

इस अवसर पर नगर आयुक्त नरेश दुर्गापाल, माही सकलानी, मनीषा राय, रजत दीक्षित, रोली कश्यप, सोनाली जोहरी सहित मातृशक्ति उपस्थित रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top