Headline
आरटीआई से सरकारी कार्मिकों में ईमानदारी से कार्य करने की प्रवृति बढ़ती है – मुख्य सचिव
मुख्यमंत्री धामी ने सौंग नदी के तट पर जल संरक्षण और संर्वद्धन योजना का किया लोकार्पण
भाजपा ने हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और एमपी में विधानसभा उपचुनाव के लिए जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट
कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी का कैम्पटी पहुंचने पर स्वागत करते नैनबाग मंडल के पदाधिकारि एवं स्थानीय लोग
26 जून को होगा लोकसभा स्पीकर का चुनाव
कुवैत के हादसे में मारे गए भारतीयों के शवों को अंतिम संस्कार के लिए लाया गया भारत
मीठी ड्रिंक्स की लालसा को कम करने के लिए अपनाएं ये 5 प्रभावी तरीके
वनाग्नि की चपेट में आकर झुलसे चार वन कर्मियों को एम्स दिल्ली किया जा रहा शिफ्ट
बढ़ती गर्मी से परेशान पर्यटक मसूरी पहुंचने के लिए कर रहे कड़ी मशक्कत, घंटों इंतजार के बाद मिल रही बस

विश्व बैंक का अनुमान- 2024 में लगातार तीसरे साल धीमी रहेगी वैश्विक विकास की रफ्तार

2021 में 6.2 प्रतिशत के बाद, जिसे कोविड-19 महामारी के कारण कम आधार के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है, विश्व बैंक का अनुमान है कि वैश्विक वृद्धि 2022 में 3 प्रतिशत और फिर 2023 में 2.6 प्रतिशत हो जाएगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि पहले कोविड-19 महामारी, फिर यूक्रेन में युद्ध और इसके बाद दुनियाभर में मुद्रास्फीति और ब्याज दरों में बढ़ोतरी के कारण 2020 की पहली छमाही में ऐसा लग रहा है कि यह 30 वर्षों में आधे दशक का सबसे खराब प्रदर्शन होगा।

बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री इंदरमीत गिल ने एक बयान में कहा, फिर भी अगले दो वर्षों के बाद भी परिदृश्य अंधकारमय है। गिल ने कहा, 2024 का अंत विकास के लिए एक परिवर्तनकारी दशक होने की उम्मीद के आधे बिंदु को चिह्नित करेगा – जब अत्यधिक गरीबी को समाप्त किया जाना था, जब प्रमुख संचारी रोगों को समाप्त किया जाना था और जब ग्रीनहाउस-गैस उत्सर्जन में लगभग आधी कटौती की जानी थी। विश्व बैंक के उप मुख्य अर्थशास्त्री अहान कोसे ने कहा कि इससे 2008-2009 के वैश्विक वित्तीय संकट के आसपास के वर्षों की तुलना में 2020-2024 की अवधि में विकास कमजोर हो जाएगा।

इस बीच, विश्व बैंक का मानना है कि भारत की वृद्धिदर 2023-24 में 6.3 प्रतिशत से बढक़र 2024-25 में 6.4 प्रतिशत और 2025-26 में 6.5 प्रतिशत हो जाएगी। विश्व बैंक की रिपोर्ट में कहा गया है, भारत को दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच सबसे तेज विकास दर बनाए रखने का अनुमान है, लेकिन महामारी के बाद इसकी रिकवरी धीमी होने की उम्मीद है। रिपोर्ट में कहा गया है कि निवेश में मामूली गिरावट आने की उम्मीद है, लेकिन बैंकिंग क्षेत्र सहित उच्च सार्वजनिक निवेश और बेहतर कॉर्पोरेट बैलेंस शीट द्वारा समर्थित मजबूत बना रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top