Headline
महाराज ने दिये महाभारत ट्रेल को विकसित करने के निर्देश
सीमान्त मुनस्यारी पिथौरागढ़ व चम्पावत के लिए उड़ान भरेंगे हेलीकॉप्टर
रोज एप्पल जूस पिएंगे तो क्या होगा, सेब का जूस पीते वक्त बरतें ये सावधानियां
चारधाम यात्रा की तैयारियों में जुटा स्वास्थ्य महकमा
उत्तराखंड की बेटी ने राष्ट्रीय साहित्यिक मंच पर किया नाम रोशन
विवाह बंधन में बंधे रकुल प्रीत सिंह और जैकी भगनानी, सिख रीति रिवाजों से हुआ आनंद कारज
बद्रीनाथ धाम ने ओढ़ी बर्फ की सफेद चादर, रुक-रुककर बर्फबारी का दौर जारी
ब्लॉक प्रमुख ने कांग्रेस छोड़ी, भाजपा का दामन थामा
सभी बाधाएं दूर, शीघ्र शुरू होगा जमरानी बांध का निर्माण- महाराज

वरिष्ठ पत्रकार और लोकगायक अजय ढोंडियाल का गाया गया गीत ‘के संध्या झूली’ को भारतीय सेना ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर किया शेयर

देहरादून। उत्तराखंड के वरिष्ठ पत्रकार और लोकगायक का गाया गया गीत ‘के संध्या झूली’ भारतीय सेना ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म youtube पर शेयर किया है। इस गीत का देशभक्ति और सेना से कोई लेना देना नहीं है, फिर भी सेना को इसमें देशप्रेम लगा होगा तो शायद तभी शेयर किया होगा। आपको बता दें कि डॉ अजय का ये गीत बेडू पाको की तर्ज़ पर भारतीय सेना ने स्वीकार कर सोशल मीडिया पर शेयर किया है।

इस गीत को आकाशवाणी से कबूतरी देवी और हीरा सिंह राणा ने अपने अपने अंदाज़ में पहचान दी। स्वर्गीय हीरा सिंह राणा ने इस लोकगीत को अपने नये शब्दों के साथ नये अंदाज़ में गाया था। करीब 5 महीने पहले ये गीत डॉ अजय ढोंडियाल की आवाज में youtube पर आया, इस गीत को पांडवाज़ ने अपने संगीत से सजाया, गीत बहुत पहुत हिट हुआ और लोगों ने इसको पसंद किया। यहां ये ज़रूर बताना चाहेंगे कि गीत के हिट होने का पैमाना youtube के दर्शकों की संख्या से नहीं है। गीत अभी तीन प्लेटफार्म पर है। स्वर्गीय राणा जी, पांडवाज़ और भारतीय सेना के youtube पर, हमें गर्व है कि पहाड़ लोक के मूल गीत से बढ़ कर कुछ नहीं, इस बारे में जब वरिष्ठ पत्रकार और लोकगायक डॉ अजय ढोंडियाल से हमने बात की तो उन्होंने सिर्फ ये कहा कि ये मेरे लिए गौरव का पल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top